Special offers

Breaking News

 

what is Draft Committee.

प्रारूप समिति क्या हैं?

संविधान सभा ने संविधान के निर्माण से संबंधित विभिन्न कार्यों के संचालन करने के लिए कई समितियों का गठन किया था उसमें प्रारूप समिति का भी अहम योगदान है संविधान सभा के सभी समितियों में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण प्रारूप समिति ही थी प्रारूप समिति की सदस्य संख्या 7 थी। जिसके नाम इस प्रकार हैं।



क्रमांक.


 प्रारूप समिति के सदस्य  


   

1.  डॉक्टर बी. आर.अंबेडकर 
2. एन गोपालस्वामी आयंगर
3.  अल्लादी कृष्णस्वामी अय्यर
4.  डॉक्टर के. एम. मुंशी
5.  सैयद मोहम्मद सादुल्लाह 
6  एन.माधव राव
7.  टी.टी कृष्णामाचारी

 प्रारूप समिति के अध्यक्ष के रूप में डॉ बीआर अंबेडकर को चुना गया । प्रारूप समिति में बी.एल. मित्र को भी सदस्य के रूप में चुना गया था परंतु उन्होंने अपने स्वास्थ्य कारणों से त्यागपत्र दे दिया।जिसके कारण उनकी जगह रिक्त हो गई उस रिक्ति को भरने के लिए एन.माधवराव ने उनकी जगह स्थान ग्रहण किया। प्रारूप समिति के गठन के कुछ ही दिन बाद 1948 में डी.पी खेतान की मृत्यु हो गई तथा उनके स्थान पर टी.टी कृष्णामाचारी ने उनकी जगह ली। प्रारूप समिति का मुख्य कार्य संविधान का प्रारूप तैयार करना था।

बहुत सारे समितियों के प्रस्ताव पर विचार विमर्श करने के बाद प्रारूप समिति ने भारत के संविधान का पहला प्रारूप तैयार किया प्रारूप समिति ने भारत के संविधान के पहले प्रारूप को 1948 के फरवरी माह में प्रकाशित किया।

 इस प्रारूप की बहुत सारी आलोचनाएं शिकायतें और अन्य लोगों के सुझाव के मध्य नजर दूसरा प्रारूप भी तैयार किया जिसे 1948 के अक्टूबर महीने में प्रकाशित किया गया। प्रारूप समिति ने प्रारूप तैयार करने के लिए कुल 131 बैठके की। तथा प्रारूप समिति ने संपूर्ण प्रारूप तैयार करने मैं 6 माह से भी कम समय लगाया।

कोई टिप्पणी नहीं

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();